सेहत

दिमाग की नसों में कमजोरी के होते हैं यह लक्षण, बिल्कुल भी ना करें नजरअंदाज, हो सकता है घातक

हमारा दिमाग तमाम नसों से जुड़ा होता है यदि इसमें थोड़ी सी भी गड़बड़ी होती है तो यह काफी प्रभावित करता है ना सिर्फ हमारी स्वास्थ्य को बल्कि हमारे कामकाज में भी यह प्रभाव डालता है कई बार शरीर में कुछ नसों में कमजोरी आ जाती है हाला की नसों में कमजोरी का कारण कुछ भी हो सकता है चोट लगने से, शरीर में कुछ पोषक तत्वों की कमी से, नस में दबाव पड़ने से, इसके अलावा कई बार इंफेक्शन के कारण भी नसों में परेशानी आ जाती है नसों में समस्या होने से दिमाग भी काम करना बंद कर देता है वैसे नसों में कमजोरी का कोई भी कारण हो सकता है लेकिन यदि इस पर ठीक तरीके से ध्यान नहीं दिया गया तो यह आपको लंबे समय तक परेशान कर सकता है और गंभीर बीमारी का रूप भी ले सकता है इसीलिए आज हम आपको नसों में कमजोरी के कुछ लक्षण बताने जा रहे हैं जिसे आप समय रहते समझकर इलाज कर सके।

दिमाग की नसों में कमजोरी होने के हैं यह लक्षण।
शरीर में झुनझुनी होना- शरीर में झुनझुनी होना दिमागी नसों में कमजोरी का एक लक्षण माना जाता है दरअसल जब आपके दिमाग के नस में ब्लड सही तरह से नहीं पहुंच पाता तो आपके शरीर में झुनझुनी की समस्या हो सकती है ध्यान दें आपके शरीर में किसी भी स्थान पर झुनझुनी की समस्या हो सकती है यदि यह लंबे समय तक हो रही है तो इसे नजरअंदाज ना करे।

स्ट्रोक- दिमाग की कोशिकाओं के प्रभावित होने के कारण कई बार स्ट्रोक की समस्या भी हो सकती है यह स्थिति बेहद गंभीर होती है और शरीर में बहुत नुकसान भी हो जाता है यदि आपको भी स्टोक की समस्या हो रही है तो एक बार इलाज जरूर करवाएं।

मानसिक क्षमता में प्रभाव– दिमाग की नसों के कमजोर होने से कई बार मानसिक क्षमता भी प्रभावित हो सकती है जैसे कि सोचने की क्षमता या काम करने की क्षमता प्रभावित हो सकती है इसके अलावा याददाश्त को भी प्रभाव पड़ सकता है यदि किसी व्यक्ति को याददाश्त में परेशानी आ रही है यह दिमाग काम नहीं कर रहा है तो यह नस में कमजोरी से जुड़ा हो सकता है।

देखने में परेशानी- यदि आपको देखने में परेशानी हो रही है तो यह नसों में कमजोरी का एक लक्षण हो सकता है दरअसल आंख की नसें काफी सेंसिटिव होती है जो कि दिमाग से डायरेक्ट जुड़ी होती है यदि दिमाग की नसों में कमजोरी आती है तो आंखों की नसों में उसका प्रभाव सबसे जल्दी पड़ता है इसीलिए इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज ना करें नहीं तो यह समस्या बढ़ सकती है।

तालमेल में कमी- शरीर में तालमेल बनाना यदि मुश्किल हो रहा है तो यह दिमाग की नसों में कमजोरी का एक लक्षण माना जाता है दरअसल हमारे दिमाग से हमारे पूरे शरीर की नसें जुड़ी हुई है यदि दिमाग की नसों में कोई परेशानी आती है तो शरीर का तालमेल बिगड़ने लगता है इसके अलावा आपको पैरों में झुनझुनी या झटके भी लग सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker