सेहत

यदि आप भी गर्दन के दर्द से है परेशानी, तो इन आयुर्वेदिक नुस्खों को अपनाएं, दर्द से मिल जाएगा आराम

सर्वाइकल के दर्द के बारे में आप में से बहुत कम लोग ही जानते होंगे बहुत से लोगों को यह परेशानी आज के समय में देखने को मिलती है। यह दर्द शरीर की हड्डी के जोड़ों और डिस्क में समस्या होने पर सर्वाइकल का दर्द उठता है। यह दर्द बहुत ही ज्यादा दर्दनाक होता है सबसे ज्यादा बड़े उम्र के लोगों में यह परेशानी सबसे ज्यादा देखने को मिलती है। यह समस्या लेकिन आजकल बहुत ज्यादा सामान हो गई है यह सिर्फ बड़े बुजुर्गों को ही नहीं बच्चों नौजवान लोगों में भी यह शिकायत बहुत ज्यादा देखने को मिलती है। इस सर्वाइकल पेन सर्वाइकल स्पॉन्डलोसिस या अर्थराइटिस के कारण होने वाला दर्द ही यह है। गर्दन में यह दर्द बहुत ज्यादा होता है इस स्थिति में उन हड्डियों और देश के जोड़ों में बदलाव होता है जो गर्दन से जुड़े होते हैं। सर्वाइकल के दर्द से आराम पाने के लिए हम तमाम तरह के एक्सरसाइज व्यायाम योग करते हैं क्योंकि डॉक्टर भी इस बात की सलाह देते हैं लेकिन इसके बाद भी यह आपके लिए फायदेमंद साबित नहीं होता है। इस और इन दर्द से छुटकारा पाने के लिए हम तमाम तरह के पेन किलर कभी इसका सेवन करते हैं जो हमारे भीतरी अंगों को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचाते हैं ऐसे में हम कुछ आयुर्वेदिक नुस्खों को अपनाना भूल जाते हैं लेकिन आपको बता दें कि कई प्राचीन काल से आयुर्वेदिक नुस्खे हमारे विभिन्न प्रकार की बीमारियों को दूर करने और कम करने के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद साबित हुए हैं इसलिए अभी भी हम इन सब नुस्खों को अपनाकर अपने बड़ी से बड़ी बीमारियों को दूर कर सकते हैं। ऐसे में सर्वाइकल के दर्द से आराम पाने के लिए भी आप कुछ आयुर्वेदिक नुस्खों को अपना सकते हैं यह आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा तो चलिए जानते हैं कौन से आयुर्वेदिक नुस्खे—-

रोजाना करे अरंडी के तेल से मालिश
आपको बता दें कि यदि आपको यह परेशानी लंबे समय से चली आ रही है आप बहुत ज्यादा परेशान रहते हैं और आप दवाइयां खा खाकर भी थक गए हैं तो आप इन दर्द से आराम पाने के लिए अरंडी के तेल से अपने गर्दन के आसपास और गर्दन पर अच्छी तरह से मसाज कर सकते हैं यह सर्वाइकल के दर्द से भी आपको आराम देगा यदि आप सोने के समय करेंगे इस समय से मालिश तो यह आपके लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद होगा इससे विषाक्त पदार्थ शरीर से साफ होते हैं अरंडी का तेल बाद दोस्त को भी कंट्रोल करने का काम करता है इसलिए इस सब परेशानी के लिए अरंडी का तेल बहुत ज्यादा फायदेमंद है।

करे लहसुन से यह उपाय
आपको बता दें कि लहसुन से भी आप इन सब परेशानियों को दूर कर सकते हैं लहसुन हमारे लिए बहुत फायदेमंद है और औषधि दृष्टि से देखा जाए तो लहसुन को बहुत ज्यादा गुणकारी माना गया है ऐसे में देखा जाता है कि लहसुन की तासीर बहुत ज्यादा गर्म होती है जो बात दोस्त को कंट्रोल करने के लिए बहुत ज्यादा गुणकारी माना जाता है इसलिए रोज सुबह खाली पेट गया जी आपका ची लहसुन की कलियों को पानी के साथ खाएंगे तो यह आपके इस प्रकार के सर्वाइकल के दर्द को से छुटकारा दिलाने के लिए बहुत कारगर है साथ ही साथ आप लहसुन का तेल से भी अपने सर्वाइकल के दर्द और गर्दन के आसपास की जगह पर मालिश कर सकते हैं ऐसा करने से या आप के दर्द से आपको आराम देगा।

करें तिल के तेल का इस्तेमाल
आप तिल के तेल का इस्तेमाल करके भी पुराने जोड़ों के दर्द और सर्वाइकल के दर्जा रामपाल सकते हैं यह बहुत बेहतरीन आयुर्वेदिक उपचार है तिल के तेल को आयुर्वेद में बहुत ज्यादा गुणकारी माना गया है सर्वाइकल के दर्द से छुटकारा पाने के लिए आप तिल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं यह मांसपेशियों में होने वाले दर्द को भी ठीक करता है सर्वाइकल के दर्द में भी आराम कर सकते हैं तिल का तेल हल्का होता है और उसको में आसानी से प्रवेश कर जाता है जिससे यह दर्द को कम करने का काम करता है।

करें इस प्रकार योगासन
आप योगासन की मदद से भी सर्वाइकल जैसे दर्द से छुटकारा पा सकते हैं प्राचीन काल से भी योगासन का उपयोग कर कर के सारे प्रकार के दर्द से हमें छुटकारा मिलता है ऐसे में आयुर्वेद में भी योगासन का बहुत ज्यादा महत्व है योग करने से कई तरह की समस्याओं से आसानी से आराम मिल जाती है मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए भी आप योगासन कर सकता सर्वाइकल दर्द में भी आप हल के योगासन कर सकते हैं इसे गर्दन और कंधों के आसपास दर्द और जकड़न भी काफी कम होती है और द से भी आपको आराम मिल जाता है।

बना के पौधे का करें उपयोग
आपको बता दें कि बल्ला का पौधा इन सब दर्द से आप को आजादी दिलाने के लिए बहुत कारगर है इनमें औषधि गुण भरपूर मात्रा में होते हैं यह बहुत सी समस्याओं का इलाज है इसकी पेड़ों की छाल का काढ़ा बनाकर मांसपेशियों की जकड़न दूर करने के लिए बहुत कारगर माना जाता है बला की जड़ के काढ़े में नमक डालकर पीने से बाहर की जकड़न दूर होती है साथ ही साथ 2 ग्राम बल्कि जड़ और 2 ग्राम नीम की छाल मिलाकर काढ़ा बना कर पिएंगे तो यह सर्वाइकल के दर्द से आपको छुटकारा दिलाने के लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा।

करें अश्वगंधा का इस्तेमाल
औषधीय गुणों से भरपूर अश्वगंधा को आप सभी अच्छी तरह से जानते हुए बहुत सारी दवाइयां बनाने में अश्वगंधा का उपयोग किया जाता है जो धंधा इम्युनिटी बढ़ाने के साथ-साथ बहुत सी बीमारियों को दूर करने के लिए बहुत कारगर है यह सूजन को भी कम करता है तंत्रिका और श्वसन प्रजनन प्रणाली पर कार्य करता है ऐसे में यह बहुत ज्यादा फायदेमंद है अगर आप सर्वाइकल के दर्द बहुत ज्यादा परेशान है तो आप अश्वगंधा के चूर्ण का सेवन कर सकते हैं ऐसा करने से आप के दर्द से आपको आराम मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker