सेहत

अगर सीने में जलन और गैस की समस्या से रहते है परेशान तो बदले अपने सोने का तरीका, मिलेगा राहत

लोगों को पेट संबंधी परेशानियां आम देखी जाती है यह समस्या एकदम आम समस्या है लेकिन हर व्यक्ति को होती है हर व्यक्ति को गैस संबंधी परेशानियां पेट में जलन सीने में जलन पेट में दर्द एसिडिटी की समस्याएं अपच की समस्याएं होने लग जाती हैं। ऐसा हमारे खराब खान पान बाहर के खान पान बिना समय खाने की वजह से होता है। कई बार मसालेदार खाना खाने की वजह से भी यह सब परेशान है देखने को मिलती है या कम उम्र से लेकर अधिक उम्र तक के लोगों में समस्या देखने को मिलती है। सबसे ज्यादा परेशानी अगर देखी जाए तो गैस की समस्या है गैस की समस्या से कई बार सीने में जलन और सीने में दर्द भी होने लग जाती है। यह हमारे खान-पान के वजह से ही होता है लेकिन अगर हम आपको बताएं कि सोने के तरीकों के वजह से भी यह सब परेशानियां ज्यादा बढ़ती हैं तो आपको यह जानकर हैरानी होगी देखा जाए तो सोने पर ज्यादा लोगों के साथ यही समस्या सबसे ज्यादा देखी जाती कि उन्हें गैस की समस्या होती और फिर भी बदहजमी हो गए से परेशान हो जाते हैं। गैस की समस्या का कारण यह है कि पेट की सामग्री बाहर निकल कर फूड पाइप में चली जाती है जिसके वजह से सीने में जलन खट्टी डकार बार बार आना गैस की समस्या उत्पन्न होना यह सब होता है। इसके अलावा रात में आपको मछली ब्लाटिंग और उल्टी भी महसूस हो सकता है पर क्या आप जानते हैं कि सोने के बाद गैस की समस्या के कारण क्या है तो आज इस आर्टिकल में हम आपको यही बताने जा रहे हैं ।

रात में गैस की समस्या का कारण क्या है
आपको हम बता देना चाहते हैं कि रात में गैस की समस्या यदि हर बार आपको होती है तो इसके पीछे का कारण क्या होगा एसिड रिफ्लक्स तब होता है जब फूड पाइप से निचले हिस्से जिससे ऐसो फेशियल स्पेक्टर की मांसपेशियां भोजन को पेट से बाहर निकलने से रोकती हैं।यह इन मांसपेशियों की कमजोरी और शिथिलता के कारण भी हो सकती है साथ ही रात में होने वाली एसिडिटी की समस्या गुरुत्वाकर्षण और शरीर रचना विज्ञान पर भी निर्भर करती है। जिनमें आपके सीधे खड़े होने या बैठने की संभावना अधिक होती है,, इसलिए जब पेट केयर से निकल जाता है तो गुरुत्वाकर्षण और लाल जल्द से पेट से सामग्री वापस कर देते हैं यही चीज रात में नहीं हो पाती है। दरअसल आपके मुंह में बनने वाला लालची पिक बहुत अहम भूमिका निभाता या खाने को पचाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी होता है। एसिड रिफ्लक्स आमतौर पर नींद से पहले दो या 3 घंटे में होता है या आम तौर पर तब होता है जब कोई व्यक्ति भारी भोजन करने के तुरंत बाद लेट जाता है। इस दौरान खाना सही से पच नहीं पाता और पेट का ऐसे डिस्ट्रिक्ट जूस फूड पाइप के जरिए मुंह तक आ जाता है ऐसे में आप अपने सोने के तरीके को सही करके इस समस्या से बच सकते है।

इस तरह लाए सोने के तरीके में बदलाव मिल जाएगी आपको गैस और सीने में जलन की परेशानी से छुटकारा

बाई ओर करवट करके सोए
आपको हम बता देना चाहते हैं कि यदि आप गैस की परेशानी और सीने में जलन खट्टी डकार ओं से परेशान है तो आपको सपने सोने की स्थिति में बदलाव जरूर लाना चाहिए इसके लिए सबसे पहले आपको अपने भाई और करवट करके ही सोना चाहिए भाई और करवट करके सोने से गुरुत्वाकर्षण पक्ष में काम करता है क्योंकि आपका आपका पेट आपके फूड पाइप के नीचे रहता और एसिड रिफ्लक्स होने पर अगर आप दाहिनी करवट करके सोते हैं तो यह तुरंत गले तक पहुंच जाते यही कारण है कि आपको बाई ओर करवट करके ही सोना चाहिए।

हमेशा अपने सर के साइड को ऊपर रखें
अपने सिर के नीचे और ऊपरी पीठ के नीचे अतिरिक्त तकिया लगा कर और अपने सिर को अपने शरीर से 6 से 8 इंच ऊपर उठाकर सोने से आफ एसिडिटी से बच सकते हैं फिर कोई शायरी के ऊपर उठाकर सोने से आप इस समस्या से बच भी सकते हैं आपको इसलिए अपने सोने की चीजों में थोड़ी सी बदलाव लाने की बहुत जरूरत है।

पीठ के बल कभी भी ना सोये
पेट के बल सोने से एसिड रिफ्लक्स की समस्या और बढ़ जाती है इसलिए आप कभी भी पीठ के बल सोने की गलती ना करें और एसिड आपके ऊपर से निकल जाता है और गले तक पहुंच जाता है जिससे आपको खट्टी डकार उल्टियां आना शुरू हो जाती हैं इसलिए अगर आप मोटापे से भी ज्यादा पीड़ित है तो आपको अपने सोने में बदलाव करना होगा और पीठ के बल कभी भी नहीं सोना होगा।

पेट के बल भी गलती से भी ना सोये आप कभी भी पेट के बल भी ना सुने ऐसा करने से भी आप को कह संबंधी परेशानियां और बढ़ सकती है सीने में जलन और उल्टी जैसी समस्या भी हो सकती है इसलिए यदि आप खाना खाकर तुरंत सो रहे हैं तो पेट के बल बिल्कुल भी ना सोए आपको बाय और करवट करके ही सोना होगा तभी आपके लिए फायदेमंद होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker